इलेक्ट्रिक व्हीकल डीलरशिप कैसे लें/डीलर कैसे बने | How to become Electric Vehicle Dealer in India

0 1
0 1
Spread the love
Read Time:9 Minute, 9 Second

परिचय:

भारत सरकार के विज़न के अनुसार, अगले 10 सालों में इलेक्ट्रिक/हाइब्रिड व्हीकल्स देश के पुरे व्हीकल्स का 30% होंगे. वर्तमान में देश में 23 करोड़ व्हीकल्स हैं और 2030 तक देश में 30% इलेक्ट्रिक व्हीकल्स का मतलब 10 करोड़ इलेक्ट्रिक व्हीकल्स है जो एक बहुत बड़ा नंबर है. 

10 करोड़ इलेक्ट्रिक व्हीकल्स एक बहुत बड़ी अपोर्चुनिटी (मौका/अवसर) की तरफ इशारा करते हैं और इसको हासिल करने में इलेक्ट्रिक व्हीकल डीलर्स की भूमिका बहुत ही महत्वपूर्ण होगी.

विवरण:

किसी भी व्हीकल कंपनी को अपने व्हीकल को सेल करने के लिए डीलर्स की जरुरत पड़ती है जो उसके व्हीकल्स को उपभोक्ता/ग्राहक तक पहुंचाते हैं. इसलिए व्हीकल डीलरशिप एक बहुत ही लाभदायक बिज़नेस है और इलेक्ट्रिक व्हीकल के उज्जवल भविष्य को देखते हुए ये निस्संदेह एक सुनहरा मौका है. 

इलेक्ट्रिक व्हीकल डीलरशिप लेने से पहले डिटेल में रिसर्च करना बहुत जरूरी है. सबसे पहले ये रिसर्च करना चाहिए कि मार्केट में किस प्रकार के व्हीकल की ज्यादा डिमांड है और उपभोक्ता किस व्हीकल को पसंद करते हैं. 

दूसरी मुख्य बात है कि प्रत्येक डीलर को ये पता होना चाहिए कि उनका उपभोक्ता किस कैटेगरी का है- क्या वो लोअर क्लास का है या वो लोअर मिडिल क्लास या मिडिल क्लास या फिर वो उपर क्लास के हैं. उपभोक्ता का कटेगोरी डिसाइड होने के बाद एक डीलर को अपने प्रोडक्ट/व्हीकल का चुनाव करना चाहिए. 

एक व्हीकल डीलरशिप को चलाने के लिए एक मजबूत और कुशल (efficient) टीम की जरुरत होती है. एक आदर्श टीम सेल्स एम्प्लोयी, फाइनेंस मैनेजर, डीलर/एजेंसी मैनेजर, मार्केटिंग और टेक्नीशियन/वर्कर्स से मिलकर बनती है. सेल्स इम्प्लॉई व्हीकल सेल्स के लिए उपभोक्ता से कांटेक्ट करके लीड जेनेरेट करता है, फाइनेंस मैनेजर व्हीकल को फाइनेंस से सम्बंधित इश्यूज को हैंडल करता है और डीलर/एजेंसी मैनेजर एक पुरे डीलरशिप को मैनेज करता है. मार्केटिंग एम्प्लोयी/स्टाफ भावी (prospective) उपभोक्ता को अपने डीलरशिप के बारे में अवगत करता है. टेक्नीशियन/वर्कर्स व्हीकल बिकने के बाद उसमे आने वाली टेक्निकल इश्यूज को हैंडल करते हैं. 

व्हीकल डीलरशिप को शुरू करने के पहले कुछ मुख्य जरूरतों (requirements) को पूरा करना होता है

एक अच्छी कंपनी का डीलरशिप लेने के लिए 1000-2000 स्क्वायर फ़ीट की जगह की जरुरत होती है. अगर ये जगह किसी प्राइम लोकेशन पर मिल जाए तो अच्छी संख्या में व्हीकल बिकेंगे और कंपनी भी डीलरशिप देने के लिए ज्यादा इंटरेस्टेड होगी. 

कोई भी कंपनी अपनी डीलरशिप देने के लिए एक शर्त रखती है कि डीलर को व्हीकल का 1 महीने का स्टॉक खरीद कर रखना होता है. 

एक अच्छा डीलर बनने के लिए जरुरी है कि आपके पास एक अच्छे और कुशल एम्प्लाइज हों. किसी भी डीलरशिप को सफल बनाने में एक अच्छी टीम का महत्वपूर्ण योगदान होता है. इसलिए सोच समझ कर अच्छे और अनुभवी लोगो को अपने टीम में रखना चाहिए जो उपभोक्ता के साथ अच्छे से पेश आएं/व्यवहार करें. 

डीलरशिप शुरू करने से पहले की डिटेल्ड रिसर्च (ऊपर लिखे रीसर्च स्टेप्स) करने के बाद और डीलरशिप की जरूरतों (ऊपर लिखे जरूरतों के स्टेप्स) को समझने के बाद कंपनी के वेबसाइट पर जाकर उनके डीलरशिप बनने के लिए दिए हुए फॉर्म को भरना पड़ता है. इसके बाद कंपनी के एम्प्लोयी आपको संपर्क करके आगे के स्टेप्स समझाते हैं और आपको अच्छे से गाइड करते हैं.  

 ये भी पढ़ें:

दिल्ली गवर्नमेंट अग्ग्रेगेटर्स (aggregators) को इलेक्ट्रिक व्हीकल्स में स्विच करने को बोलेगी
Tata Motors ने इलेक्ट्रिक व्हीकल्स में 700 करोड़ Rs इन्वेस्टमेन्ट के साथ एंट्री किया

सारांश:

इलेक्ट्रिक व्हीकल्स पर्यावरण के लिए लाभदायक हैं और इससे देश का तेल के इम्पोर्ट पर निर्भरता भी कम होगी. साल 2030 तक भारत सरकार के इलेक्ट्रिक व्हीकल्स को पुरे व्हीकल सेल्स का 30% शेयर (हिस्सा) करने के विज़न को देखते हुए ये निश्चित तौर पर कह सकते हैं कि देश में इलेक्ट्रिक व्हीकल्स का भविष्य बहुत उज्जवल है.

FAQs:

क्या इलेक्ट्रिक व्हीकल डीलरशिप लाभदायक/प्रॉफिटेबल है ?
देश में इलेक्ट्रिक व्हीकल के बढ़ती संख्या को देखकर ये कह सकते हैं कि ये एक प्रॉफिटेबल बिज़नेस साबित होगा. एक इलेक्ट्रिक व्हीकल डीलरशिप से शुरू में औसतन 60 हजार से 1 लाख Rs तक का रेवेन्यु हासिल हो सकता है जो की बाद में निश्चित ही बढ़ जाएगा. 
इलेक्ट्रिक बाइक की डीलरशिप कैसे मिलती है ?
इलेक्ट्रिक बाइक की डीलरशिप लेने के लिए ऊपर लिखे आर्टिकल के स्टेप्स को अच्छे से फॉलो करेँ.
डीलरशिप के लिए अप्लाई करने से पहले 10 से 20 लाख Rs के इन्वेस्टमेंट के लिए तैयार होना चाहिए तथा एक अच्छे लोकेशन पर डीलरशिप के लिए जगह भी लेनी चाहिए जिसका खर्च इस खर्च (10 से 20 लाख Rs) के अलावा होगा. 
क्या ओला का डीलरशिप फायदेमंद है ?
ओला/ओला इलेक्ट्रिक एक जानीमानी इलेक्ट्रिक कंपनी है और इसके स्कूटर्स की प्री बुकिंग बहुत जल्दी फुल हो गयी और कंपनी को अपनी प्री बुकिंग बहुत जल्दी बंद करनी पड़ी क्यूंकि बहुत सारे लोगों ने ओला स्कूटर के लिए अप्लाई किया था. इससे इस कंपनी के स्कूटर की डिमांड का पता चलता है. इसीलिए ओला इलेक्ट्रिक का डीलरशिप निस्संदेह फायदेमंद है. 
क्या हीरो इलेक्ट्रिक का डीलरशिप फायदेमंद है ?
हीरो इलेक्ट्रिक देश की अग्रणी इलेक्ट्रिक व्हीकल कंपनी है. इसलिए इसकी डीलरशिप निश्चित रूप से प्रॉफिटेबल होगी. इलेक्ट्रिक 2 व्हीलर में डीलरशिप शुरू करने के लिए हीरो इलेक्ट्रिक एक विश्वशनीय कंपनी है. 
सिंपल वन का डीलर कैसे बने ?
इलेक्ट्रिक व्हीकल इंडस्ट्री में सिंपल वन एक रेपुटेड कंपनी है और इसने बहुत सारे किफायती मॉडल्स मार्केट में लांच किये हैं. इस कंपनी का डीलरशिप लेने के लिए सिंपल वन के ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर डीलरशिप के लिए फॉर्म में जरुरी इनफार्मेशन भरके अप्लाई करना पड़ता है. इसके बाद कंपनी के एम्प्लोयी आपको आगे के स्टेप्स के लिए गाइड करेंगे.    
कंपनी ने फिलहाल डीलरशिप देना बंद कर दिया है. डीलरशिप से सम्बंधित किसी भी प्रकार की जानकारी के लिए कंपनी को dealerenquiries@simpleenergy.in पर ईमेल करें

About Post Author

Nitin Kashyap

Nitin Kashyap has interest in electric vehicle industry. He has substantial experience in Business/Economic/Market Research. Nitin holds BA and MBE [Master of Business Economics] degree. He knows Spanish, English & Hindi languages. His likes blogging, reading and traveling.
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Comment

x